Chakra Asana & Mudras

Chakra Meditation – How to open Chakra and know more about Chakra Awakening with Chakra meditation subtle body practice.

Chakra meditation 

Just as there are 7 colors in the rainbow spectrum, 7 levels of consciousness, 7 ages of man and 7 notes on the western scale, there are 7 major chakras in the human body. There are five chakras outside the body that assist us in connecting to the universal field. The chakras are energy centers, transformers, and gates that connect the meridian lines and the three auras surrounding the physical and subtle bodies. They are located along the spine and up into the head and can be activated and balanced with the chakra meditation outlined at the end of this article.

The 7 chakras in the human body sense the complete range of frequencies entering a person’s personal energy field. They process and distribute energy entering the auras and meridians transforming the frequencies into different sensations; namely, emotion, thought and physical sensations. This is done in the same way that the eye refracts light. Just as different frequencies of light that enter the brain are interpreted by the brain as different colors, the 7 chakras, by refracting subtle energy, break it down into impressions that radiate an impact on a person. 

-In traditional Hatha Yoga, the 7 cleansing bija mantras associated with the chakras are:

  • “LAM”- chakra 1 (root)
  • “VAM”- chakra 2 (sacral/navel)
  • “RAM”- chakra 3 (solar plexus)
  • “YAM”- chakra 4 (heart)
  • “HAM”- chakra 5 (throat)
  • “OM”- chakra 6 (third eye/brow)
  • “OM”- chakra 7 (crown)

You can read a brief, yet the full explanation for each chakra below. 

  1. The Base (or Root Chakra) 

Its colour is red and it is located at the perineum, base of your spine. It is the Chakra closest to the earth. Its function is concerned with earthly grounding and physical survival. This Chakra is associated with your legs, feet, bones, large intestine, and adrenal glands. It controls your fight or flight response. The blockage may manifest as paranoia, fear, procrastination, and defensiveness.

Chakra 2 – – The Sacral (or Navel Chakra) 

Its colour is orange and it is located between the base of your spine and your navel. It is associated with your lower abdomen, kidneys, bladder, circulatory system and your reproductive organs and glands. It is concerned with emotion. This chakra represents desire, pleasure, sexuality, procreation, and creativity. The blockage may manifest as emotional problems, compulsive or obsessive behavior, and sexual guilt. 

Chakra 3 – The Solar Plexus

Its color is yellow and it is located a few inches above the navel in the solar plexus area. This chakra is concerned with your digestive system, muscles, pancreas, and adrenals. It is the seat of your emotional life. Feelings of personal power, laughter, joy, and anger are associated with this center. Your sensitivity, ambition, and ability to achieve are stored here. A blockage may manifest as anger, frustration, lack of direction or a sense of victimization.

Chakra 4 – The heart  

Its color is green and it is located within your heart. It is the center of love, compassion, harmony, and peace. The Asians say that this is the house of the soul. This Chakra is Associate with your lungs, heart, arms hands and thymus gland. We fall in love through our heart Chakra, then that feeling of unconditional love moves to the emotional center commonly known as the solar plexus. After that, it moves into the sexual center or Base Chakra where strong feelings of attraction can be released. When these energies move into the Base Chakra we may have the desire to marry and settle down. Blockage can show itself as immune system, lung and heart problems, or manifest as inhumanity, lack of compassion or unprincipled behavior.

Chakra 5. The Throat

Its color is blue or turquoise and it is located within the throat. It is the Chakra of communication, creativity, self-expression, and judgment. It is associated with your Neck, shoulders, arms, hands, thyroid and parathyroid glands. It is concerned with the senses of inner and outer hearing, the synthesizing of ideas, healing, transformation, and purification. Blockage can show up as creative blocks, dishonesty or general problems in communicating ones needs to others.  

Chakra 6 – The Third Eye (or Brow Chakra) 

Its color is Indigo (a combination of red and blue). It is located at the center of your forehead at eye level or slightly above. This Chakra is used to question the spiritual nature of our life. It is the Chakra of question, perception and knowing. It is concerned with inner vision, intuition, and wisdom. Your dreams for this life and recollections of other lifetimes are held in this Chakra. The blockage may manifest as problems like lack of foresight, mental rigidity, ‘selective’ memory and depression.

Chakra 7 – The Crown 

Its color is violet and it is located at the top of your head. It is associated with the cerebral cortex, central nervous system, and the pituitary gland. It is concerned with information, understanding, acceptance, and bliss. It is said to be your own place of connection to God, the Chakra of Divine purpose and personal destiny. Blockage can manifest as psychological problems.

Meditation is a transformational method that not only helps us relax but also improves our general well-being. If you’re just beginning to meditate or you’ve been wanting to learn, there are a variety of simple meditation techniques you could start with. Learning how to meditate may seem like a daunting task for beginners, but the basics are actually pretty straightforward. To learn about meditation techniques for beginners, follow our guided meditations for beginners through the “Mantra yoga” meditation organization.

We are happy to help you and to give you a lot of opportunities in our meditation course.

     https://mantrayogameditation.org/meditation-teacher-training-rishikesh/

      https://mantrayogameditation.org/meditation-teacher-training-india/

Advertisements

Yoga & Meditation Teacher Training India

Yoga & Meditation Teacher Training in India

Our 200 hour yoga & meditation teacher training in Rishikesh & Dharamsala India is a unique mix of Asana and spirituality.The training course is designed for any age people.The 200 hour yoga alliance certified yoga & Meditation teacher training course in India at Mantra Yoga School is a Beginner level 01- Course for them who wish to experience Yoga – Physical aspect and Meditation, spiritual aspects of Intellect,mind power as well. This is a complete wellness training program for them who wish to become a Meditation teacher as well want to grow themselves into spiritual awakening.

Yoga & Meditation Teacher Training in Rishikesh, Dharamsala India

Email us for any questions regarding our 24 Days – meditation training in Dharamsala or 28 Days training in Rishikesh ,India

Read more about our 200 hour yoga & Meditation teacher training here – https://mantrayogameditation.org/meditation-teacher-training-india/

Laughter Yoga Training in Goa

Laughter Yoga Training in Goa

 

Laughter Yoga (Hasyayoga) is a combination of deep Breathings and laugh exercises. Laughter yoga techniques and movements are very easy to learn and an enjoyable and happiest way to relieve stress and pain. Laugh without any reason and start making eye contact and playfulness in a group initiate laughter yoga. After a few minutes of laughter and playfulness practice, fake laugh turns into real laughter which oxygenates our body and brain to increase energy, enhance brain function and lower stress.

Dr. Madan Kataria started Laughter Yoga (Hasyayoga) in 1995.And spread the Happiness therapy to the worldwide.It is the most wonderful technique to keep yourself stressfree.

Yoga teacher training in Rishikesh- Vinyasa Yoga School India

 

At Mantra Yoga and Meditation School, the laughter yoga session is the best part of the Yoga teacher training course which includes best laughter yoga exercises, yogic Breathing technique resulting in psychological and physiological benefits.

Benefits of Laughter Yoga (laughing help you live longer)

Laughter yoga is a cardiovascular exercise which helps to keep our body energetic and healthy. It helps to reduce the physical, mental and emotional stress.

A few minutes of laughter yoga can release endorphins hormone from brain which helps to get relief from stress and pain.

Laughter yoga makes our immune system stronger and healthier. It helps to get rid of High blood pressure, heart problems, Blood sugar level and even helpful in cancer as well.

We get more oxygen by doing laughter yoga .oxygen kills the harmful bacteria and virus. It generates positive energy to face a negative situation, people, and energy at any point in time

It helps to clean your lungs   Oxygen get in inside each and every part of the lungs and eliminate the harmful bacteria and toxic elements. A daily routine of laughter yoga can improve lung performance and capacity.

Laughter is the best tool to connect and interact with people.

Yoga Teacher Training School India – Mantra Yoga – Goa

After Yoga Teacher Training Info

Yoga Teacher Training in India is the best choice for Yogis across the world. And why not when you get a chance to experience the genuine yogic tradition and Vedic learning with spirituality as part of 200-hour yoga teacher training in India with an International certification.Most Yoga for Beginners has a dream to travel to yoga holidays destination like Rishikesh, Goa or Dharamsala in North India.A 28 Days of life-changing experience is just a beginning of learning to get fit and share the healthy life training with your yoga class to others.

You completed your teacher training and are now an official yoga instructor. Yay! While all the studying and preparation is complete, there are still a number of other steps you should take. Here are 17 important things you should do after you complete your yoga teacher training.

  1. Start a “certification” file: Make sure you keep copies of your certification, your attendance records, and a list of the completed classes and grades for each class. This is important information to have on hand when applying for teaching opportunities.Visit Yoga alliance USA website to know more about RYT 200 or 500.
  1. Get certified in CPR: It may not be required, but becoming certified in CPR (cardiopulmonary resuscitation) shows that you have taken one extra step beyond your yoga teaching certification to be a professional part of the yoga community. And make sure to add that CPR certificate to your certification file!
  1. Don’t Quit Your Day Job: While the thought of becoming a full-time yoga teacher sounds amazing, your chances of filling up your schedule with 20+ classes a week is slim when you’re first starting off. Be patient and continue working to support yourself. Never lose sight of your dream, there may be a day when you are a full-time yoga teacher.
  1. Purchase yoga liability insurance: While you don’t often hear about injuries from yoga, it is important to be protected and purchase yoga liability insurance. It is also important to have proof of liability insurance when applying for yoga teaching positions.
  1. Talk to an accountant: You are ultimately developing a business. You should talk to an accountant or other tax professionals so you can properly establish yourself and your business right from the start.
  1. Offer assistance: A great way to gain classroom experience is to sign up to assist in classes at a local yoga studio. Assisting is a great way to gain hands-on experience while continuing to learn and develop a presence in the studio’s community. You can also learn from the yoga instructor leading the class about class management and be working with different students.
  1. Develop your resume: Just like applying for any job, you need a resume. Make sure you include all the information related to your completed training program; including the school you attended, classes completed, any continuing education units (CEUs), and anywhere you are assisting.
  1. Market yourself: Everyone today needs business cards and a website. Just like your resume, it may initially start out simple, but will develop over time as your teaching experience grows. Don’t forget about social media! In this digital age, having a social presence is key.
  1. Determine your rate: While you may just be starting out, it is important to develop a rate for instruction. Your rate will vary based on your geographic area, your associated costs, and your revenue needs. As you gain experience, your rate will increase, but for now, it is important to develop a minimum rate in order to get started.
  1. Develop professional contacts: As you begin to assist at different classes, meet yoga studio owners and fellow teachers, you are developing professional contacts. Make sure to keep track of all the people you meet. You are developing a strong professional network that can help you along the way as you develop your professional teaching practice.
  1. Teach on a regular basis: While you are looking for a teaching opportunity at a yoga studio, make sure you teach on a regular basis – anywhere. It will help develop your teaching approach and can help get your name out in the community. It could be a “donation only” class at the local community center, donate time at a nearby senior citizen residence, or even just your friends and family at home. Get in the habit of teaching and develop your own classroom approach.
  1. Take Continuing Education Units: It is a great accomplishment that you have completed your yoga teaching certification. You should be proud. Understand, however, that there is much more to learn. Make sure to continue to learn by attending classes, workshops, and continuing education units (CEUs). Whether you decide to learn about a different facet of yoga you are unfamiliar with or gain a new view on a topic you have already studied, continuing to learn is crucial to your success as a teacher.
  1. Look for constructive criticism: Teach a class of your friends and family and them ask for honest feedback on your approach. You will learn how to work with people at different levels and different physical limitations. Think about even recording yourself giving a class so you can watch your responses to students and listen to your voice. Do you sound calming? Are you providing explicit instructions? You may not receive this type of honest feedback any other way.
  1. Get on substitute lists: While you are looking for a long-term teaching opportunity, talk to different yoga studio managers and gym owners about getting hired as a substitute yoga instructor. It will give you the opportunity to build a relationship with the managers, get in some teaching practice, and build your resume. If a long-term teaching opportunity opens up, you are right there ready to apply!
  1. Find a niche: Sometimes it is hard to set yourself apart from other teachers. Work to develop a niche. Consider developing a practice around the needs of cancer survivors or veterans. Find a need in your community and service that need.
  1. Continue your own practice: While you are developing your professional practice, don’t forget to continue to develop your own practice. It is important to continuously learn and push your abilities. When you do so, you will not only become a better student, you will become a better teacher.
  1. Be patient: You finished your training and you are excited to go! It will, however, take time to make contacts, get on sublists, and establish a business. Don’t give up. Be focused. Manifest what makes a great yoga teacher and how you want to present yourself. It will all come together.

Conclusion

By completing your yoga teacher training, you have taken a great step toward your dream of becoming a yoga teacher and perhaps owning your own studio. It is important to remember, however, there are steps you need to take to have a successful business. Steps like purchasing yoga insurance, continuing to learn more by taking classes or attending workshops, and building a network may not feel very “yoga-like,” but they are definitely important to building a successful yoga teaching practice.

If you have any more questions regarding 200-hour yoga teacher training in Rishikesh, Dharamsala or Goa, India. – We would be happy to help you. Just post your questions to our Yoga Forum India

Naivedyam – Offerings-Prasad

What is Prasad ( Naivedyam)?

Answers to the question with a Beautiful explanation (Bhakti Yog- Upanishad) Naivedyam offerings to God is known as Prasad.

DSC01514

*NAIVEDYAM: WILL GOD EAT OUR OFFERINGS?*

Here is a very good explanation about Naivedyam to God.

Will God come and eat our offerings?

Many of us could not get a proper explanation from our elders.

An attempt is made here.

A Guru-Shishya conversation:

The Sishya who doesn’t believe in God, asked his Guru thus:

“Does God accept our *’naivedhyam’* (offerings)?

If God eats away the *’prasadham’* then from where can we distribute it to others?

Does God really consume the ‘prasadham’, Guruji?”

The Guru did not say anything.

Instead,
asked the student to prepare for classes.

That day, the Guru was teaching his class about the ‘upanishads’.

He taught them the *’mantra’* : *”poornamadham,* *poornamidham,*
*poornasya poornaadaaya….”*

and explained that:

*every thing came out from “Poorna or Totality.”*
( Ishavasya Upanishad ).

Later,
Everyone was instructed to practice the mantra by heart.

So all the boys started practicing.

After a while,

The Guru came back and asked that very student who had raised his doubt about Neivedyam to recite the mantra without seeing the book,

which he did.

Now the Guru gave a smile and asked this particular shishya who didn’t believe in God :

‘Did you really memorize everything as it is in the book?

The shishya said : “Yes Guruji, I’ve recited whatever is written as in the book.

The Guru asked: “If you have taken every word into your mind then how come the words are still there in the book?

He then explained:

The words in your mind are in the *SOOKSHMA STHITI* (unseen form).

The words in the book are there in the *STOOLASTHITI* (seen).

*GOD* too is in the *’sooksma sthiti’.*

The offering made to Him is done in *’stoola sthiti’.*

Thus,

God takes the food in *’sookshmam’*, in *sookshma stithi.*

Hence the food doesn’t become any less in quantity.

While GOD takes it in the *”sookshma sthiti”,*

We take it as *’prasadam’* in *’sthoola sthiti’.*

Hearing this the sishya felt guilty for his disbelief in God and surrendered himself to his GURU.

When Bhakti enters Food,
Food becomes *Prasad…*

When Bhakti enters Hunger,
Hunger becomes a *Fast…*

When Bhakti enters Water,
Water becomes *Charanamrit…*

When Bhakti enters Travel,
Travel becomes a *Pilgrimage…*

When Bhakti enters Music ,
Music becomes *Kirtan…*

When Bhakti enters a House,
House becomes a *Temple…*

When Bhakti enters Actions,
Actions become *Services…*

When Bhakti enters in Work,
Work becomes *Karma…*

When Bhakti enters a Man,
Man becomes *Human…*

When Bhakti enters social media
Chat becomes *Satsang*

Namaste from #MantraYogaandMeditationSchool #Rishikesh #India

http://www.mantrayogameditation.org

Reborn

Punar Janma – Reborn 

Veda-Yoga-Gyan-Guru-Punarjanma

Charak Sahinta – Yog Darshan

चरक संहिता योग दर्शन या किसी भी अन्य आर्ष ग्रन्थ के विषयों को समझने में सहायक प्रश्न उत्तर👍

…….
आत्मचिंतन
साधकों के लिये,
अवश्य पढ़ें और शेयर करें
पुनर्जन्म पूरे ब्रह्माण्ड में यत्र तत्र…!

🌹🌷🌹🙏🏻🙏🏻🙏🏻🌹🌷🌹

(1) प्रश्न :- पुनर्जन्म किसको कहते हैं ?

उत्तर :- जब जीवात्मा एकv शरीर का त्याग करके किसी दूसरे शरीर में जाती है तो इस बार बार जन्म लेने की क्रिया को पुनर्जन्म कहते हैं ।

(2) प्रश्न :- पुनर्जन्म क्यों होता है ?

उत्तर :- जब एक जन्म के अच्छे बुरे कर्मों के फल अधुरे रह जाते हैं तो उनको भोगने के लिए दूसरे जन्म आवश्यक हैं ।

(3) प्रश्न :- अच्छे बुरे कर्मों का फल एक ही जन्म में क्यों नहीं मिल जाता ? एक में ही सब निपट जाये तो कितना अच्छा हो ?

उत्तर :- नहीं जब एक जन्म में कर्मों का फल शेष रह जाए तो उसे भोगने के लिए दूसरे जन्म अपेक्षित होते हैं ।

(4) प्रश्न :- पुनर्जन्म को कैसे समझा जा सकता है ?

उत्तर :- पुनर्जन्म को समझने के लिए जीवन और मृत्यु को समझना आवश्यक है । और जीवन मृत्यु को समझने के लिए शरीर को समझना आवश्यक है ।

(5) प्रश्न :- शरीर के बारे में समझाएँ ?

उत्तर :- हमारे शरीर को निर्माण प्रकृति से हुआ है ।
जिसमें मूल प्रकृति ( सत्व रजस और तमस ) से प्रथम बुद्धि तत्व का निर्माण हुआ है ।
बुद्धि से अहंकार ( बुद्धि का आभामण्डल ) ।
अहंकार से पांच ज्ञानेन्द्रियाँ ( चक्षु, जिह्वा, नासिका, त्वचा, श्रोत्र ), मन ।
पांच कर्मेन्द्रियाँ ( हस्त, पाद, उपस्थ, पायु, वाक् ) ।

शरीर की रचना को दो भागों में बाँटा जाता है ( सूक्ष्म शरीर और स्थूल शरीर ) ।

(6) प्रश्न :- सूक्ष्म शरीर किसको बोलते हैं ?

उत्तर :- सूक्ष्म शरीर में बुद्धि, अहंकार, मन, ज्ञानेन्द्रियाँ । ये सूक्ष्म शरीर आत्मा को सृष्टि के आरम्भ में जो मिलता है वही एक ही सूक्ष्म शरीर सृष्टि के अंत तक उस आत्मा के साथ पूरे एक सृष्टि काल ( ४३२००००००० वर्ष ) तक चलता है । और यदि बीच में ही किसी जन्म में कहीं आत्मा का मोक्ष हो जाए तो ये सूक्ष्म शरीर भी प्रकृति में वहीं लीन हो जायेगा ।

(7) प्रश्न :- स्थूल शरीर किसको कहते हैं ?

उत्तर :- पंच कर्मेन्द्रियाँ ( हस्त, पाद, उपस्थ, पायु, वाक् ) , ये समस्त पंचभौतिक बाहरी शरीर ।

(8) प्रश्न :- जन्म क्या होता है ?

उत्तर :- जीवात्मा का अपने करणों ( सूक्ष्म शरीर ) के साथ किसी पंचभौतिक शरीर में आ जाना ही जन्म कहलाता है ।

(9) प्रश्न :- मृत्यु क्या होती है ?

उत्तर :- जब जीवात्मा का अपने पंचभौतिक स्थूल शरीर से वियोग हो जाता है, तो उसे ही मृत्यु कहा जाता है । परन्तु मृत्यु केवल सथूल शरीर की होती है , सूक्ष्म शरीर की नहीं । सूक्ष्म शरीर भी छूट गया तो वह मोक्ष कहलाएगा मृत्यु नहीं । मृत्यु केवल शरीर बदलने की प्रक्रिया है, जैसे मनुष्य कपड़े बदलता है । वैसे ही आत्मा शरीर भी बदलता है ।

(10) प्रश्न :- मृत्यु होती ही क्यों है ?

उत्तर :- जैसे किसी एक वस्तु का निरन्तर प्रयोग करते रहने से उस वस्तु का सामर्थ्य घट जाता है, और उस वस्तु को बदलना आवश्यक हो जाता है, ठीक वैसे ही एक शरीर का सामर्थ्य भी घट जाता है और इन्द्रियाँ निर्बल हो जाती हैं । जिस कारण उस शरीर को बदलने की प्रक्रिया का नाम ही मृत्यु है ।

(11) प्रश्न :- मृत्यु न होती तो क्या होता ?

उत्तर :- तो बहुत अव्यवस्था होती । पृथ्वी की जनसंख्या बहुत बढ़ जाती । और यहाँ पैर धरने का भी स्थान न होता ।

(12) प्रश्न :- क्या मृत्यु होना बुरी बात है ?

उत्तर :- नहीं, मृत्यु होना कोई बुरी बात नहीं ये तो एक प्रक्रिया है शरीर परिवर्तन की ।

(13) प्रश्न :- यदि मृत्यु होना बुरी बात नहीं है तो लोग इससे इतना डरते क्यों हैं ?

उत्तर :- क्योंकि उनको मृत्यु के वैज्ञानिक स्वरूप की जानकारी नहीं है । वे अज्ञानी हैं । वे समझते हैं कि मृत्यु के समय बहुत कष्ट होता है । उन्होंने वेद, उपनिषद, या दर्शन को कभी पढ़ा नहीं वे ही अंधकार में पड़ते हैं और मृत्यु से पहले कई बार मरते हैं ।

(14) प्रश्न :- तो मृत्यु के समय कैसा लगता है ? थोड़ा सा तो बतायें ?

उत्तर :- जब आप बिस्तर में लेटे लेटे नींद में जाने लगते हैं तो आपको कैसा लगता है ?? ठीक वैसा ही मृत्यु की अवस्था में जाने में लगता है उसके बाद कुछ अनुभव नहीं होता । जब आपकी मृत्यु किसी हादसे से होती है तो उस समय आमको मूर्छा आने लगती है, आप ज्ञान शून्य होने लगते हैं जिससे की आपको कोई पीड़ा न हो । तो यही ईश्वर की सबसे बड़ी कृपा है कि मृत्यु के समय मनुष्य ज्ञान शून्य होने लगता है और सुषुुप्तावस्था में जाने लगता है ।

(15) प्रश्न :- मृत्यु के डर को दूर करने के लिए क्या करें ?

उत्तर :- जब आप वैदिक आर्ष ग्रन्थ ( उपनिषद, दर्शन आदि ) का गम्भीरता से अध्ययन करके जीवन,मृत्यु, शरीर, आदि के विज्ञान को जानेंगे तो आपके अन्दर का, मृत्यु के प्रति भय मिटता चला जायेगा और दूसरा ये की योग मार्ग पर चलें तो स्वंय ही आपका अज्ञान कमतर होता जायेगा और मृत्यु भय दूर हो जायेगा । आप निडर हो जायेंगे । जैसे हमारे बलिदानियों की गाथायें आपने सुनी होंगी जो राष्ट्र की रक्षा के लिये बलिदान हो गये । तो आपको क्या लगता है कि क्या वो ऐसे ही एक दिन में बलिदान देने को तैय्यार हो गये थे ? नहीं उन्होने भी योगदर्शन, गीता, साँख्य, उपनिषद, वेद आदि पढ़कर ही निर्भयता को प्राप्त किया था । योग मार्ग को जीया था, अज्ञानता का नाश किया था । महाभारत के युद्ध में भी जब अर्जुन भीष्म, द्रोणादिकों की मृत्यु के भय से युद्ध की मंशा को त्याग बैठा था तो योगेश्वर कृष्ण ने भी तो अर्जुन को इसी सांख्य, योग, निष्काम कर्मों के सिद्धान्त के माध्यम से जीवन मृत्यु का ही तो रहस्य समझाया था और यह बताया कि शरीर तो मरणधर्मा है ही तो उसी शरीर विज्ञान को जानकर ही अर्जुन भयमुक्त हुआ । तो इसी कारण तो वेदादि ग्रन्थों का स्वाध्याय करने वाल मनुष्य ही राष्ट्र के लिए अपना शीश कटा सकता है, वह मृत्यु से भयभीत नहीं होता , प्रसन्नता पूर्वक मृत्यु को आलिंगन करता है ।

(16) प्रश्न :- किन किन कारणों से पुनर्जन्म होता है ?

उत्तर :- आत्मा का स्वभाव है कर्म करना, किसी भी क्षण आत्मा कर्म किए बिना रह ही नहीं सकता । वे कर्म अच्छे करे या फिर बुरे, ये उसपर निर्भर है, पर कर्म करेगा अवश्य । तो ये कर्मों के कारण ही आत्मा का पुनर्जन्म होता है । पुनर्जन्म के लिए आत्मा सर्वथा ईश्वराधीन है ।

(17) प्रश्न :- पुनर्जन्म कब कब नहीं होता ?

उत्तर :- जब आत्मा का मोक्ष हो जाता है तब पुनर्जन्म नहीं होता है ।

(18) प्रश्न :- मोक्ष होने पर पुनर्जन्म क्यों नहीं होता ?

उत्तर :- क्योंकि मोक्ष होने पर स्थूल शरीर तो पंचतत्वों में लीन हो ही जाता है, पर सूक्ष्म शरीर जो आत्मा के सबसे निकट होता है, वह भी अपने मूल कारण प्रकृति में लीन हो जाता है ।

(19) प्रश्न :- मोक्ष के बाद क्या कभी भी आत्मा का पुनर्जन्म नहीं होता ?

उत्तर :- मोक्ष की अवधि तक आत्मा का पुनर्जन्म नहीं होता । उसके बाद होता है ।

(20) प्रश्न :- लेकिन मोक्ष तो सदा के लिए होता है, तो फिर मोक्ष की एक निश्चित अवधि कैसे हो सकती है ?

उत्तर :- सीमित कर्मों का कभी असीमित फल नहीं होता । यौगिक दिव्य कर्मों का फल हमें ईश्वरीय आनन्द के रूप में मिलता है, और जब ये मोक्ष की अवधि समाप्त होती है तो दुबारा से ये आत्मा शरीर धारण करती है ।

(21) प्रश्न :- मोक्ष की अवधि कब तक होती है ?

उत्तर :- मोक्ष का समय ३१ नील १० खरब ४० अरब वर्ष है, जब तक आत्मा मुक्त अवस्था में रहती है ।

(22) प्रश्न :- मोक्ष की अवस्था में स्थूल शरीर या सूक्ष्म शरीर आत्मा के साथ रहता है या नहीं ?

उत्तर :- नहीं मोक्ष की अवस्था में आत्मा पूरे ब्रह्माण्ड का चक्कर लगाता रहता है और ईश्वर के आनन्द में रहता है, बिलकुल ठीक वैसे ही जैसे कि मछली पूरे समुद्र में रहती है । और जीव को किसी भी शरीर की आवश्यक्ता ही नहीं होती।

(23) प्रश्न :- मोक्ष के बाद आत्मा को शरीर कैसे प्राप्त होता है ?

उत्तर :- सबसे पहला तो आत्मा को कल्प के आरम्भ ( सृष्टि आरम्भ ) में सूक्ष्म शरीर मिलता है फिर ईश्वरीय मार्ग और औषधियों की सहायता से प्रथम रूप में अमैथुनी जीव शरीर मिलता है, वो शरीर सर्वश्रेष्ठ मनुष्य या विद्वान का होता है जो कि मोक्ष रूपी पुण्य को भोगने के बाद आत्मा को मिला है । जैसे इस वाली सृष्टि के आरम्भ में चारों ऋषि विद्वान ( वायु , आदित्य, अग्नि , अंगिरा ) को मिला जिनको वेद के ज्ञान से ईश्वर ने अलंकारित किया । क्योंकि ये ही वो पुण्य आत्मायें थीं जो मोक्ष की अवधि पूरी करके आई थीं ।

(24) प्रश्न :- मोक्ष की अवधि पूरी करके आत्मा को मनुष्य शरीर ही मिलता है या जानवर का ?

उत्तर :- मनुष्य शरीर ही मिलता है ।

(25) प्रश्न :- क्यों केवल मनुष्य का ही शरीर क्यों मिलता है ? जानवर का क्यों नहीं ?

उत्तर :- क्योंकि मोक्ष को भोगने के बाद पुण्य कर्मों को तो भोग लिया , और इस मोक्ष की अवधि में पाप कोई किया ही नहीं तो फिर जानवर बनना सम्भव ही नहीं , तो रहा केवल मनुष्य जन्म जो कि कर्म शून्य आत्मा को मिल जाता है ।

(26) प्रश्न :- मोक्ष होने से पुनर्जन्म क्यों बन्द हो जाता है ?

उत्तर :- क्योंकि योगाभ्यास आदि साधनों से जितने भी पूर्व कर्म होते हैं ( अच्छे या बुरे ) वे सब कट जाते हैं । तो ये कर्म ही तो पुनर्जन्म का कारण हैं, कर्म ही न रहे तो पुनर्जन्म क्यों होगा ??

(27) प्रश्न :- पुनर्जन्म से छूटने का उपाय क्या है ?

उत्तर :- पुनर्जन्म से छूटने का उपाय है योग मार्ग से मुक्ति या मोक्ष का प्राप्त करना ।

(28) प्रश्न :- पुनर्जन्म में शरीर किस आधार पर मिलता है ?

उत्तर :- जिस प्रकार के कर्म आपने एक जन्म में किए हैं उन कर्मों के आधार पर ही आपको पुनर्जन्म में शरीर मिलेगा ।

(29) प्रश्न :- कर्म कितने प्रकार के होते हैं ?

उत्तर :- मुख्य रूप से कर्मों को तीन भागों में बाँटा गया है :- सात्विक कर्म , राजसिक कर्म , तामसिक कर्म ।

(१) सात्विक कर्म :- सत्यभाषण, विद्याध्ययन, परोपकार, दान, दया, सेवा आदि ।
(२) राजसिक कर्म :- मिथ्याभाषण, क्रीडा, स्वाद लोलुपता, स्त्रीआकर्षण, चलचित्र आदि ।
(३) तामसिक कर्म :- चोरी, जारी, जूआ, ठग्गी, लूट मार, अधिकार हनन आदि ।

और जो कर्म इन तीनों से बाहर हैं वे दिव्य कर्म कलाते हैं, जो कि ऋषियों और योगियों द्वारा किए जाते हैं । इसी कारण उनको हम तीनों गुणों से परे मानते हैं । जो कि ईश्वर के निकट होते हैं और दिव्य कर्म ही करते हैं ।

(30) प्रश्न :- किस प्रकार के कर्म करने से मनुष्य योनि प्राप्त होती है ?

उत्तर :- सात्विक और राजसिक कर्मों के मिलेजुले प्रभाव से मानव देह मिलती है , यदि सात्विक कर्म बहुत कम है और राजसिक अधिक तो मानव शरीर तो प्राप्त होगा परन्तु किसी नीच कुल में , यदि सात्विक गुणों का अनुपात बढ़ता जाएगा तो मानव कुल उच्च ही होता जायेगा । जिसने अत्यधिक सात्विक कर्म किए होंगे वो विद्वान मनुष्य के घर ही जन्म लेगा ।

(31) प्रश्न :- किस प्रकार के कर्म करने से आत्मा जीव जन्तुओं के शरीर को प्राप्त होता है ?

उत्तर :- तामसिक और राजसिक कर्मों के फलरूप जानवर शरीर आत्मा को मिलता है । जितना तामसिक कर्म अधिक किए होंगे उतनी ही नीच योनि उस आत्मा को प्राप्त होती चली जाती है । जैसे लड़ाई स्वभाव वाले , माँस खाने वाले को कुत्ता, गीदड़, सिंह, सियार आदि का शरीर मिल सकता है , और घोर तामसिक कर्म किए हुए को साँप, नेवला, बिच्छू, कीड़ा, काकरोच, छिपकली आदि । तो ऐसे ही कर्मों से नीच शरीर मिलते हैं और ये जानवरों के शरीर आत्मा की भोग योनियाँ हैं ।

(32) प्रश्न :- तो क्या हमें यह पता लग सकता है कि हम पिछले जन्म में क्या थे ? या आगे क्या होंगे ?

उत्तर :- नहीं कभी नहीं, सामान्य मनुष्य को यह पता नहीं लग सकता । क्योंकि यह केवल ईश्वर का ही अधिकार है कि हमें हमारे कर्मों के आधार पर शरीर दे । वही सब जानता है ।

(33) प्रश्न :- तो फिर यह किसको पता चल सकता है ?

उत्तर :- केवल एक सिद्ध योगी ही यह जान सकता है , योगाभ्यास से उसकी बुद्धि । अत्यन्त तीव्र हो चुकी होती है कि वह ब्रह्माण्ड एवं प्रकृति के महत्वपूर्ण रहस्य़ अपनी योगज शक्ति से जान सकता है । उस योगी को बाह्य इन्द्रियों से ज्ञान प्राप्त करने की आवश्यकता नहीं रहती है
वह अन्तः मन और बुद्धि से सब जान लेता है । उसके सामने भूत और भविष्य दोनों सामने आ खड़े होते हैं ।

(34) प्रश्न :- यह बतायें की योगी यह सब कैसे जान लेता है ?

उत्तर :- अभी यह लेख पुनर्जन्म पर है, यहीं से प्रश्न उत्तर का ये क्रम चला देंगे तो लेख का बहुत ही विस्तार हो जायेगा । इसीलिये हम अगले लेख में यह विषय विस्तार से समझायेंगे कि योगी कैसे अपनी विकसित शक्तियों से सब कुछ जान लेता है ? और वे शक्तियाँ कौन सी हैं ? कैसे प्राप्त होती हैं ? इसके लिए अगले लेख की प्रतीक्षा करें…

(35) प्रश्न :- क्या पुनर्जन्म के कोई प्रमाण हैं ?

उत्तर :- हाँ हैं, जब किसी छोटे बच्चे को देखो तो वह अपनी माता के स्तन से सीधा ही दूध पीने लगता है जो कि उसको बिना सिखाए आ जाता है क्योंकि ये उसका अनुभव पिछले जन्म में दूध पीने का रहा है, वर्ना बिना किसी कारण के ऐसा हो नहीं सकता । दूसरा यह कि कभी आप उसको कमरे में अकेला लेटा दो तो वो कभी कभी हँसता भी है , ये सब पुराने शरीर की बातों को याद करके वो हँसता है पर जैसे जैसे वो बड़ा होने लगता है तो धीरे धीरे सब भूल जाता है…!

(36) प्रश्न :- क्या इस पुनर्जन्म को सिद्ध करने के लिए कोई उदाहरण हैं…?

उत्तर :- हाँ, जैसे अनेकों समाचार पत्रों में, या TV में भी आप सुनते हैं कि एक छोटा सा बालक अपने पिछले जन्म की घटनाओं को याद रखे हुए है, और सारी बातें बताता है जहाँ जिस गाँव में वो पैदा हुआ, जहाँ उसका घर था, जहाँ पर वो मरा था । और इस जन्म में वह अपने उस गाँव में कभी गया तक नहीं था लेकिन फिर भी अपने उस गाँव की सारी बातें याद रखे हुए है , किसी ने उसको कुछ बताया नहीं, सिखाया नहीं, दूर दूर तक उसका उस गाँव से इस जन्म में कोई नाता नहीं है । फिर भी उसकी गुप्त बुद्धि जो कि सूक्ष्म शरीर का भाग है वह घटनाएँ संजोए हुए है जाग्रत हो गई और बालक पुराने जन्म की बातें बताने लग पड़ा…!

(37) प्रश्न :- लेकिन ये सब मनघड़ंत बातें हैं, हम विज्ञान के युग में इसको नहीं मान सकते क्योंकि वैज्ञानिक रूप से ये बातें बेकार सिद्ध होती हैं, क्या कोई तार्किक और वैज्ञानिक आधार है इन बातों को सिद्ध करने का ?

उत्तर :- आपको किसने कहा कि हम विज्ञान के विरुद्ध इस पुनर्जन्म के सिद्धान्त का दावा करेंगे । ये वैज्ञानिक रूप से सत्य है , और आपको ये हम अभी सिद्ध करके दिखाते हैं..!

(38) प्रश्न :- तो सिद्ध कीजीए ?

उत्तर :- जैसा कि आपको पहले बताया गया है कि मृत्यु केवल स्थूल शरीर की होती है, पर सूक्ष्म शरीर आत्मा के साथ वैसे ही आगे चलता है , तो हर जन्म के कर्मों के संस्कार उस बुद्धि में समाहित होते रहते हैं । और कभी किसी जन्म में वो कर्म अपनी वैसी ही परिस्थिती पाने के बाद जाग्रत हो जाते हैं ।
इसे उदहारण से समझें :- एक बार एक छोटा सा ६ वर्ष का बालक था, यह घटना हरियाणा के सिरसा के एक गाँव की है । जिसमें उसके माता पिता उसे एक स्कूल में घुमाने लेकर गये जिसमें उसका दाखिला करवाना था और वो बच्चा केवल हरियाणवी या हिन्दी भाषा ही जानता था कोई तीसरी भाषा वो समझ तक नहीं सकता था । लेकिन हुआ कुछ यूँ था कि उसे स्कूल की Chemistry Lab में ले जाया गया और वहाँ जाते ही उस बच्चे का मूँह लाल हो गया !! चेहरे के हावभाव बदल गये !!
और उसने एकदम फर्राटेदार French भाषा बोलनी शुरू कर दी !! उसके माता पिता बहुत डर गये और घबरा गये , तुरंत ही बच्चे को अस्पताल ले जाया गया । जहाँ पर उसकी बातें सुनकर डाकटर ने एक दुभाषिये का प्रबन्ध किया । जो कि French और हिन्दी जानता था , तो उस दुभाषिए ने सारा वृतान्त उस बालक से पूछा तो उस बालक ने बताया कि ” मेरा नाम Simon Glaskey है और मैं French Chemist हूँ । मेरी मौत मेरी प्रयोगशाला में एक हादसे के कारण ( Lab. ) में हुई थी । ”

तो यहाँ देखने की बात यह है कि इस जन्म में उसे पुरानी घटना के अनुकूल मिलती जुलती परिस्थिति से अपना वह सब याद आया जो कि उसकी गुप्त बुद्धि में दबा हुआ था । यानि की वही पुराने जन्म में उसके साथ जो प्रयोगशाला में हुआ, वैसी ही प्रयोगशाला उस दूसरे जन्म में देखने पर उसे सब याद आया । तो ऐसे ही बहुत सी उदहारणों से आप पुनर्जन्म को वैज्ञानिक रूप से सिद्ध कर सकते हो…!

(39) प्रश्न :- तो ये घटनाएँ भारत में ही क्यों होती हैं ? पूरा विश्व इसको मान्यता क्यों नहीं देता ?

उत्तर :- ये घटनायें पूरे विश्व भर में होती रहती हैं और विश्व इसको मान्यता इसलिए नहीं देता क्योंकि उनको वेदानुसार यौगिक दृष्टि से शरीर का कुछ भी ज्ञान नहीं है । वे केवल माँस और हड्डियों के समूह को ही शरीर समझते हैं , और उनके लिए आत्मा नाम की कोई वस्तु नहीं है । तो ऐसे में उनको न जीवन का ज्ञान है, न मृत्यु का ज्ञान है, न आत्मा का ज्ञान है, न कर्मों का ज्ञान है, न ईश्वरीय व्यवस्था का ज्ञान है । और अगर कोई पुनर्जन्म की कोई घटना उनके सामने आती भी है तो वो इसे मानसिक रोग जानकर उसको Multiple Personality Syndrome का नाम देकर अपना पीछा छुड़ा लेते हैं और उसके कथनानुसार जाँच नहीं करवाते हैं…!

(40) प्रश्न :- क्या पुनर्जन्म केवल पृथिवी पर ही होता है या किसी और ग्रह पर भी ?

उत्तर :- ये पुनर्जन्म पूरे ब्रह्माण्ड में यत्र तत्र होता है, कितने असंख्य सौरमण्डल हैं, कितनी ही पृथीवियाँ हैं । तो एक पृथीवी के जीव मरकर ब्रह्माण्ड में किसी दूसरी पृथीवी के उपर किसी न किसी शरीर में भी जन्म ले सकते हैं । ये ईश्वरीय व्यवस्था के अधीन है…

🛑 परन्तु यह बड़ा ही अजीब लगता है कि मान लो कोई हाथी मरकर मच्छर बनता है तो इतने बड़े हाथी की आत्मा मच्छर के शरीर में कैसे घुसेगी..?

🔶यही तो भ्रम है आपका , बल्कि आत्मा पूरे शरीर में नहीं फैली होती । वो तो हृदय के पास छोटे अणुरूप में होती है । सब जीवों की आत्मा एक सी है । चाहे वो व्हेल मछली हो, चाहे वो एक चींटी हो…!

Fact about Hinduism

Hinduism – A Religion and an Ancient Vedic world

Mantra Yoga and meditation India

Devi and Devtas – God & Goddess, It is always said that there are 33 carore Devi & Devtas present in Universe in different forms. But the fact is that, there are 33 types of kingdom and its rulars and those rulars are known as God & Goddess in Hindu religion.

33 करोड़ नहीं 33 कोटि देवी देवता हैं हिंदू धर्म में ;

कोटि = प्रकार ।
देवभाषा संस्कृत में कोटि के दो अर्थ होते हैं ।

कोटि का मतलब प्रकार होता है और एक अर्थ करोड़ भी होता है।

हिंदू धर्म का दुष्प्रचार करने के लिए ये बात उड़ाई गयी की हिन्दूओं के 33 करोड़ देवी देवता हैं और अब तो हिन्दू खुद ही गाते फिरते हैं की हमारे 33 करोड़ देवी देवता हैं…

कुल 33 प्रकार के देवी देवता हैँ हिंदू धर्म में :-

12 प्रकार हैँ :-
आदित्य , धाता, मित, आर्यमा,
शक्रा, वरुण, अँशभाग, विवास्वान, पूष, सविता, तवास्था, और विष्णु…!

8 प्रकार हैं :-
वासु:, धरध्रुव, सोम, अह, अनिल, अनल, प्रत्युष और प्रभाष।

11 प्रकार हैं :-
रुद्र: ,हरबहुरुप, त्रयँबक,
अपराजिता, बृषाकापि, शँभू, कपार्दी,
रेवात, मृगव्याध, शर्वा, और कपाली।
एवँ
दो प्रकार हैँ अश्विनी और कुमार ।

कुल :- 12+8+11+2=33 कोटी

अगर कभी भगवान् के आगे हाथ जोड़ा है ।
तो इस जानकारी को अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाएं ।

यह बहुत ही अच्छी जानकारी है इसे अधिक से अधिक लोगों में बाँटिये और इस कार्य के माध्यम से पुण्य के भागीदार बनिये ।

👉 एक हिंदू होने के नाते जानना आवश्यक है ।

🙏अब आपकी बारी है कि इस जानकारी को आगे बढ़ाए
📜अपने भारत की संस्कृति
को पहचानें।
ज्यादा से ज्यादा
लोगों तक पहुचायें।

खासकर अपने बच्चों को बताएं
क्योंकि ये बात उन्हें कोई दूसरा व्यक्ति नहीं बताएगा…

📜😇 दो पक्ष-

कृष्ण पक्ष ,
शुक्ल पक्ष !

📜😇 तीन ऋण –

देव ऋण ,
पितृ ऋण ,
ऋषि ऋण !

📜😇 चार युग –

सतयुग ,
त्रेतायुग ,
द्वापरयुग ,
कलियुग !

📜😇 चार धाम –

द्वारिका ,
बद्रीनाथ ,
जगन्नाथ पुरी ,
रामेश्वरम धाम !

📜😇 चारपीठ –

शारदा पीठ ( द्वारिका )
ज्योतिष पीठ ( जोशीमठ बद्रिधाम )
गोवर्धन पीठ ( जगन्नाथपुरी ) ,
शृंगेरीपीठ !

📜😇 चार वेद-

ऋग्वेद ,
अथर्वेद ,
यजुर्वेद ,
सामवेद !

📜😇 चार आश्रम –

ब्रह्मचर्य ,
गृहस्थ ,
वानप्रस्थ ,
संन्यास !

📜😇 चार अंतःकरण –

मन ,
बुद्धि ,
चित्त ,
अहंकार !

📜😇 पञ्च गव्य –

गाय का घी ,
दूध ,
दही ,
गोमूत्र ,
गोबर !

📜

📜😇 पंच तत्त्व –

पृथ्वी ,
जल ,
अग्नि ,
वायु ,
आकाश !

📜😇 छह दर्शन –

वैशेषिक ,
न्याय ,
सांख्य ,
योग ,
पूर्व मिसांसा ,
दक्षिण मिसांसा !

📜😇 सप्त ऋषि –

विश्वामित्र ,
जमदाग्नि ,
भरद्वाज ,
गौतम ,
अत्री ,
वशिष्ठ और कश्यप!

📜😇 सप्त पुरी –

अयोध्या पुरी ,
मथुरा पुरी ,
माया पुरी ( हरिद्वार ) ,
काशी ,
कांची
( शिव कांची – विष्णु कांची ) ,
अवंतिका और
द्वारिका पुरी !

📜😊 आठ योग –

यम ,
नियम ,
आसन ,
प्राणायाम ,
प्रत्याहार ,
धारणा ,
ध्यान एवं
समािध !

📜

📜

📜😇 दस दिशाएं –

पूर्व ,
पश्चिम ,
उत्तर ,
दक्षिण ,
ईशान ,
नैऋत्य ,
वायव्य ,
अग्नि
आकाश एवं
पाताल

📜😇 बारह मास –

चैत्र ,
वैशाख ,
ज्येष्ठ ,
अषाढ ,
श्रावण ,
भाद्रपद ,
अश्विन ,
कार्तिक ,
मार्गशीर्ष ,
पौष ,
माघ ,
फागुन !

📜

📜

📜😇 पंद्रह तिथियाँ –

प्रतिपदा ,
द्वितीय ,
तृतीय ,
चतुर्थी ,
पंचमी ,
षष्ठी ,
सप्तमी ,
अष्टमी ,
नवमी ,
दशमी ,
एकादशी ,
द्वादशी ,
त्रयोदशी ,
चतुर्दशी ,
पूर्णिमा ,
अमावास्या !

📜😇 स्मृतियां –

मनु ,
विष्णु ,
अत्री ,
हारीत ,
याज्ञवल्क्य ,
उशना ,
अंगीरा ,
यम ,
आपस्तम्ब ,
सर्वत ,
कात्यायन ,
ब्रहस्पति ,
पराशर ,
व्यास ,
शांख्य ,
लिखित ,
दक्ष ,
शातातप ,
वशिष्ठ !

********

इस पोस्ट को अधिकाधिक शेयर करें जिससे सबको हमारी संस्कृति का ज्ञान हो।